Sangeet Natak and Lalit Kala Akademi Award
Sangeet Natak, Lalit Kala Akademi Award : क्या आप जानते हैं किन्हें मिला संगीत नाटक, ललित कला अकादमी पुरस्कार?
April 14, 2022
SVANidhi se Samriddhi Program
SVANidhi se Samriddhi Program : स्वनिधि से समृद्धि कार्यक्रम क्या है?
April 14, 2022

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा सभी ATM पर कार्डलेस नकद निकासी की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। यह सुविधा यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) के जरिए उपलब्ध कराई जाएगी।

महत्वपूर्ण तथ्य

  • यह फैसला RBI की मौद्रिक नीति समिति (Monetary Policy Committee – MPC) ने किया।
  • RBI ने सभी बैंकों को एटीएम के जरिए कार्डलेस कैश विदड्रॉल की शुरुआत करने की इजाजत दे दी है।
  • वर्तमान में भारत में केवल कुछ ही बैंकों द्वारा कार्डलेस नकद निकासी की पेशकश की जाती है।
  • RBI द्वारा एटीएम नेटवर्क, NPCI और बैंकों को अलग-अलग निर्देश जारी किए जाएंगे।
  • एक बार जब देश भर के सभी बैंक इस निकासी प्रणाली को लागू कर देते हैं, तो ग्राहक इसका उपयोग अपने घरेलू बैंकों के एटीएम में कर सकेंगे।

UPI के माध्यम से धोखाधड़ी रोकने में मिलेगी मदद

यह मोड न केवल लेन-देन में आसानी को बढ़ाने में मदद करेगा बल्कि भौतिक कार्ड की आवश्यकता के बिना, यह कार्ड क्लोनिंग, कार्ड स्किमिंग, डिवाइस छेड़छाड़ आदि जैसे धोखाधड़ी को रोकने में मदद करेगा।

Unified Payments Interface (UPI)

यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा विकसित किया गया है। यह एक रीयल-टाइम भुगतान प्रणाली है जो तत्काल व्यक्ति-से-व्यापारी (P2M) और अंतर-बैंक पीयर-टू-पीयर (P2P) लेनदेन की सुविधा प्रदान करती है। भारतीय रिजर्व बैंक UPI को नियंत्रित करता है। यह इंटरफ़ेस एक मोबाइल प्लेटफॉर्म के माध्यम से दो बैंक खातों के बीच तुरंत धनराशि स्थानांतरित करने में मदद करता है। फरवरी 2022 तक, UPI में 304 बैंक उपलब्ध हैं और इसकी मासिक लेनदेन मात्रा 452 करोड़ रुपये है।

यह भी पढ़ें

Dornier 228 Plane : क्या आप जानते हैं डॉर्नियर विमान की खास बातें?

Comments are closed.