Tech NEEV@75
क्या आप जानते हैं Tech [email protected] के बारे में?
November 18, 2021
sattvik certificate
ट्रेनों को मिलेगा ‘सात्विक प्रमाणपत्र’ (sattvik certificate)
November 18, 2021
Show all

क्या आप जानते हैं भारत में कहां बना है खाद्य सुरक्षा संग्रहालय (Food Security Museum)?

Food Security Museum

भारत के पहले खाद्य सुरक्षा संग्रहालय (Food Security Museum) का उद्घाटन केंद्रीय उपभोक्ता मामलों, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल ने 15 नवंबर, 2021 को किया था।

महत्वपूर्ण तथ्य

  • भारतीय खाद्य निगम (Food Corporation of India) द्वारा तंजावुर में खाद्य सुरक्षा संग्रहालय की स्थापना की गई थी।
  • इस संग्रहालय को भारतीय खाद्य निगम (FCI) और विश्वेश्वरैया औद्योगिक व तकनीकी संग्रहालय, बेंगलुरु द्वारा सह-विकसित किया गया है।
  • इसे 1.10 करोड़ रुपये की लागत से 1,860 वर्ग फुट के क्षेत्र में बनाया गया है।
  • यह संग्रहालय तंजावुर में स्थापित किया गया था, जो FCI का जन्मस्थान है। FCI के पहले कार्यालय का उद्घाटन 14 जनवरी, 1965 को हुआ था।

खाद्य सुरक्षा संग्रहालय (Food Security Museum)

  • खाद्य सुरक्षा संग्रहालय घुमंतू शिकारी समूहों से मानव के विकास को सभ्यता की शुरुआत को चिह्नित करते हुए, कृषि प्रक्रियाओं में प्रदर्शित करता है।
  • यह कई प्राचीन वैश्विक और स्वदेशी अनाज भंडारण विधियों, भंडारण में चुनौतियों के साथ-साथ दुनिया और भारत में खाद्यान्न उत्पादन परिदृश्यों को भी प्रदर्शित करता है।
  • यह FCI की यात्रा, इसके वर्तमान संचालन के साथ-साथ FCI के माध्यम से खेत से थाली तक खाद्यान्न की यात्रा के बारे में सूचनात्मक सामग्री को डिजिटल रूप से प्रदर्शित करता है।
  • इस संग्रहालय में प्रवेश निःशुल्क है।

आधुनिकतम

इस फूड म्यूजियम में अत्याधुनिक प्रदर्शनियां भी हैं, जिनमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन, प्रोजेक्शन मैपिंग, प्रॉक्सिमिटी सेंसर, टच स्क्रीन कियोस्क और टच सेंसर जैसी तकनीकें शामिल हैं।

संग्रहालय का महत्व

खाद्य सुरक्षा संग्रहालय निर्भरता से आत्मनिर्भरता तक भारत के कृषि विकास को प्रदर्शित करेगा।

तंजावुर

तंजावुर शहर तमिलनाडु का 7वां सबसे बड़ा शहर है। यह दक्षिण भारतीय कला, धर्म और वास्तुकला का एक महत्वपूर्ण केंद्र है। यूनेस्को द्वारा नामित अधिकांश महान जीवित चोल मंदिर इस शहर के आसपास स्थित हैं। तंजावुर तंजौर पेंटिंग का भी घर है।

यह भी पढ़ें

पश्चिम बंगाल में ‘दुआरे राशन’ योजना (Duare Ration Scheme) लांच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *