YUVA – Prime Minister’s Scheme for Mentoring Young Authors लांच की गयी
May 31, 2021
ब्रिक्स शेरपाओं की दूसरी बैठक बुलाई गई
May 31, 2021

रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री श्री मनसुख मंडाविया (Mansukh Mandaviya) के अनुसार, केंद्र सरकार ने राज्यों को रेमडेसिविर के केंद्रीय आवंटन को बंद करने का निर्णय लिया है और भारत में रेमडेसिविर की उपलब्धता की निगरानी के लिए राष्ट्रीय फार्मास्युटिकल मूल्य निर्धारण एजेंसी (National Pharmaceuticals Pricing Agency) को निर्देश दिया है।

मनसुख मंडाविया ने प्रकाश डाला कि रेमडेसिविर (Remdesivir) का उत्पादन अप्रैल, 2021 में प्रति दिन 33,000 शीशियों से दस गुना बढ़कर मई में प्रति दिन 3,50,000 शीशी हो गया है। उनके अनुसार, सरकार ने एक महीने के भीतर रेमडेसिविर उत्पादन करने वाले संयंत्रों की संख्या 20 से बढ़ाकर 60 कर दी है। इस प्रकार, भारत के पास पर्याप्त रेमडेसिविर है क्योंकि आपूर्ति मांग से अधिक है। इसके अलावा, आपातकालीन आवश्यकता के लिए इसे रणनीतिक स्टॉक के रूप में बनाए रखने के लिए केंद्र सरकार द्वारा रेमडेसिविर की 50 लाख शीशियों की खरीद की जाएगी।

रेमडेसिविर (Remdesivir)

रेमडेसिविर एक एंटीवायरल दवा है, यह ब्रांड नाम वेक्लरी (Veklury) के तहत बेची जाती है। इसे बायोफर्मासिटिकल कंपनी गिलियड साइंसेज (Gilead Sciences) द्वारा इंजेक्शन के माध्यम से इस्तेमाल करने के लिए विकसित किया गया था। इसे 50 देशों में COVID-19 के इलाज के लिए आपातकालीन उपयोग के लिए अधिकृत किया गया था। हालांकि, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने नवंबर 2020 में कोविड-19 के इलाज के लिए रेमडेसिविर के इस्तेमाल की सशर्त सिफारिश की थी। गौरतलब है कि रेमडेसिविर को हेपेटाइटिस सी के इलाज के लिए विकसित किया गया था। इसके बाद इबोला वायरस रोग, मारबर्ग वायरस संक्रमण और कोरोनावायरस के लिए भी इसका उपयोग किया गया।

रेमडेसिविर के साइड इफेक्ट

स्वस्थ स्वयंसेवकों में आम दुष्प्रभाव में शामिल हैं : लीवर एंजाइमों के रक्त स्तर में वृद्धि, लीवर की सूजन, निम्न रक्तचाप, मतली और पसीना आना इत्यादि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *