पशु रोग जोखिम पर सलाह देने के लिए ‘One Health’ पैनल का गठन किया गया
May 27, 2021
NASA-success-cover-corbondiooxide-to-oxygen-theedusarthi
नासा नई पृथ्वी प्रणाली वेधशाला (Earth System Observatory) की स्थापना करेगा
May 27, 2021

भारतीय विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान संस्थान (Indian Institute of Science Education and Research – IISER), भोपाल द्वारा अफ्रीकी वायलेट नामक पौधे की एक नई प्रजाति की खोज की गई। अफ्रीकी वायलेट मिजोरम के कुछ हिस्सों और म्यांमार के आसपास के इलाकों में पाया जाता है। इस खोज ने जैव विविधता में पूर्वोत्तर के लिए एक मंच दिया है जिसे अभी भी पूरी तरह से खोजा नहीं गया है। IISER की एक इकाई Tropical Ecology and Evolution Lab के तहत यह खोज की गई। IISER भोपाल ने नई प्रजातियों को “डिडिमोकार्पस विकिफंकिया” (Didymocarpus Vickifunkiae) के रूप में वर्णित किया है। यह प्रजाति वर्तमान में मिजोरम में केवल तीन स्थानों पर पाई जाती है। उन्हें एक लुप्तप्राय प्रजाति के रूप में माना जाता है।

अफ्रीकी वायलेट पौधा (African Violet Plant)

वे गेस्नेरियासीए (Gesneriaceae) परिवार के जीनस सेंटपॉलिया (Saintpaulia) में फूल वाले पौधे हैं। ये पौधे उष्णकटिबंधीय पूर्वी अफ्रीका में ऊंचाई वाले क्षेत्र के के मूल निवासी हैं। वे व्यापक रूप से बागवानी रूप से उगाए जाते हैं। इस पौधे पत्तियां गहरे हरे रंग की होती हैं और तने लंबे होते हैं। ये पौधे द्विपक्षीय रूप से सममित होते हैं जिनमें पाँच पंखुड़ियाँ होती हैं। वे सफेद, बैंगनी या गुलाबी रंग के हो सकते हैं।

IISER भोपाल

यह 2008 में मानव संसाधन और विकास मंत्रालय (अब, शिक्षा मंत्रालय) द्वारा स्थापित किया गया था। टाइम्स हायर एजुकेशन 2021 रैंकिंग में इस संस्थान को 26वें स्थान पर रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *