Arms-Expenditure-in-the-world-theedusarthi
Arms Expenditure : महामारी के दौर में भी हथियारों पर खर्च बढ़ा, सिपरी की रिपोर्ट
April 27, 2021
Static-gk-gs-theedusarthi
STATIC GK : स्टेटिक जीके सीरिज 07
April 27, 2021
Show all

Proxima Centauri : सूर्य के सबसे करीबी सितारे में 100 गुना बड़ा महाविस्फोट, जानें क्या होगा असर

Proxima-centauri-theedusarthi

वैज्ञानिकों ने गैलेक्सी (Galaxy) में किसी सितारे में होने वाले सबसे बड़े विस्फोट को स्पॉट किया है। सूरज (The Sun) के सबसे करीबी लाल बोने सितारे से प्लाज्मा के जेट निकलते ऑब्जर्व किए गए जो हमारे सौर मंडल में होने वाले किसी विस्फोट से 100 गुना ज्यादा शक्तिशाली था। लाइव साइंस की रिपोर्ट के अनुसार, सितारे के शक्तिशाली चुंबकीय क्षेत्र (Magnetic Field) की वजह से ये विस्फोट (Explosion) होते हैं।

क्या हैं रिसर्च (What is Research?)

एक नई स्टडी के तहत इस सितारे को कई महीनों के दौरान 40 घंटे के लिए ऑब्जर्व किया गया। इसमें टीम ने एक महाविस्फोट देखा जो सिर्फ 7 सेकंड का था और अल्ट्रावॉइलट स्पेक्ट्रम (Ultraviolet spectrum) में दिख रहा था। यूनिवर्सिटी ऑफ कोलराडो बोल्डर में ऐस्ट्रोफिजिसिस्ट और स्टडी की लीड रिसर्चर मेरेडिश मैकग्रेगोर के अनुसार, यह सितारा अपने सामान्य रूप से 14 हजार गुना ज्यादा चमकीला दिखा जब कुछ सेकंड के लिए इसे अल्ट्रावॉइलट वेवलेंथ में देखा गया।

क्या होता है असर (What is the effect?)

धरती का चुबंकीय क्षेत्र (Magnetic Field) इंसानों को सूरज से आने वाले खतरनाक रेडिएशन (Hazardous Radiation) से बचाता है। सूर्य से आने वाले तूफानों का असर सैटलाइट (Satellite) पर आधारित टेक्नॉलजी पर हो सकता है। इसकी वजह से धरती का बाहरी वायुमंडल गरमा सकता है जिससे सैटलाइट्स पर असर हो सकता है। इससे जीपीएस नैविगेशन (GPS Navigation), मोबाइल फोन सिग्नल और सैटलाइट टीवी में रुकावट पैदा हो सकती है। पावर लाइन्स में करंट तेज हो सकता है जिससे ट्रांसफॉर्मर भी उड़ सकते हैं। हालांकि, आमतौर पर ऐसा कम ही होता है। आखिरी बार इतना शक्तिशाली तूफान 1859 में आया था जब यूरोप में टेलिग्राफ सिस्टम (Telegraph System) बंद हो गया था।

सूर्य (The Sun)

सूर्य हमारे सौरमंडल (Solar System) के केन्द्र में स्थित एक तारा (Star) जिसके चारों तरफ पृथ्वी और सौरमंडल के अन्य ग्रह/अवयव घूमते रहते हैं। सूर्य हमारे सौर मंडल का सबसे बड़ा पिंड है और उसका व्यास लगभग 13 लाख 90 हज़ार किलोमीटर है जो पृथ्वी से लगभग 109 गुना अधिक है। सूर्य मुख्य रूप से हाइड्रोजन और हीलियम गैसों का एक मिश्रण है। परमाणु विलय की प्रक्रिया द्वारा सूर्य अपने केंद्र में ऊर्जा पैदा करता है। सूर्य से प्रकाश को पृथ्वी तक पहुंचने में लगभग 18 मिनट का समय लगता है।

ये भी पढ़ें- Solar Tree : भारत ने बनाया विश्व का सबसे बड़ा सौर वृक्ष, जानें महत्वपूर्ण तथ्य

ये भी पढ़ें- Science : स्टारडस्ट 1.0 जैव ईंधन से चलने वाला पहला रॉकेट लांच, जानें क्या हैं खासियत

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *