Coviid-patient-prongin-theedusarthi
Proning : जानें क्या है प्रोनिंग, केन्द्र सरकार कोरोना मरीजों के लिए है बता चुकी है कारगर
April 25, 2021
delhi-university-Recruitment-2021-theedusarthi
DU Job 2021 : दिल्ली यूनिवर्सिटी में 1145 नॉन टीचिंग पदों पर भर्ती, जल्द करें अप्लाई
April 25, 2021

मलेरिया (Malaria) एक ऐसी बीमारी है जो मच्छरों (Mosquitoes) के काटने से होती है। यह बीमारी आमतौर पर गंदगी वाली जगहों पर या नम इलाकों में रहने वालों मच्छरों के काटने से होती है। विश्व में हर साल 25 अप्रैल (25 April) को इस बीमारी के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाता है।

मलेरिया दिवस की शुरुआत

विश्व मलेरिया दिवस (World Malaria Day) को मनाने का फैसला साल 2007 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) के 60वें सत्र में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा लिया गया। इसका उद्देश्य लोगों को मलेरिया के बारे में जागरूक करना था। इससे पहले इसे अफ्रीकी मलेरिया दिवस के तौर पर मनाया जाता था। 2007 में ही विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मलेरिया को वैश्विक बीमारी घोषित किया था।

मलेरिया दिवस की थीम

इस साल विश्व मलेरिया दिवस 2021 के लिए थीम ‘जीरो मलेरिया स्टार्ट विद मी’ (Zero Malaria Start with me) है जिसका मतलब शून्य मलेरिया लक्ष्य तक पहुंचना है।

मादा एनोफिलीस से फैलती है यह बीमारी

सवा सौ साल पहले ही पता चला कि यह बीमारी मादा एनोफिलीस मच्छरों को काटने से फैलती है जिससे प्लाजमोडियम परजीवी (Plasmodium parasite) मानव शरीर में प्रवेश कर जाता है। इस बीमारी में शरीर में बुखार, बदन दर्द, सरदर्द, थकान उल्टी जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। ठहरे हुए पानी में इस बीमारी को फैलाने वाले मच्छरों के पनपने की संभावना अधिक होती है।

ये भी पढ़ें- World Earth Day 2021 : विश्व पृथ्वी दिवस और वर्ष 2021 की थीम

ये भी पढ़ें- Sahitya Akademi Award : साहित्य अकादमी पुरस्कार 2020 के विजेताओं की पूरी सूची, हर एक अपडेट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *