Bhel-Recruitment-2021-theedusarthi
BHEL Job 2021 : भेल में सुपरवाइजर के पदों पर भर्ती, 23 मई को होगी परीक्षा
April 7, 2021
Railway-Arch-Bridge-Jammu-kashmir-theedusarthi
Arch Bridge : दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे ब्रिज जम्मू कश्मीर में तैयार, जानें क्यों बनाया जाता है आर्क ब्रिज
April 7, 2021

IPL का 14वां सीजन 9 अप्रैल से शुरू हो रहा है। देश में कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए बीसीसीआई ने कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कराने का फैसला किया है। इसके तहत बायो बबल में मौजूद हर खिलाड़ी की मॉनिटरिंग की जाएगी। इसके लिए GPS डिवाइस की मदद ली जाएगी। साथ पूरी लीग के लिए हर टीम के साथ 4-4 कोरोना अधिकारी की नियुक्ति भी की गई है। लीग का पहला मैच 9 अप्रैल को डिफेंडिंग चैम्पियन मुंबई इंडियंस और रॉयल चैलेंजर्स बेंललुरु के बीच खेला जाएगा। फाइनल मुकाबला 30 मई को होगा।

रिस्टबैंड या चेन करेगा निगरानी

खिलाड़ी बायो बबल एरिया में रहें और जो एरिया निर्धारित की गई है उससे बाहर न जाएं। इस पर नजर रखने के लिए सभी खिलाड़ियों को ट्रैकिंग डिवाइस दी जाएगी। यह डिवाइस रिस्ट बैंड या चेन के रूप में होगी जो हमेशा खिलाड़ियों को होटल कमरे से बाहर निकलने पर पहननी होगी। यह डिवाइस खिलाड़ियों को जाने-अनजाने में बायो बबल तोड़ने से रोकने में मदद भी करेगी। इससे खिलाड़ियों को पता चलेगा कि उन्हें किन जगहों पर जाना है और कौन सी जगह बायो- बबल के तहत आते हैं। जैसे ही खिलाड़ी बायो-बबल एरिया से बाहर होंगे, इस डिवाइस से आवाज आएगी और खिलाड़ी अलर्ट हो सकेंगे।

बायो बबल

बायो बबल एक ऐसा एरिया होता है जो कृत्रिम रुप से बनाया जाता है, जहां एक व्यक्ति/खिलाड़ी को स्वस्थ रहने के लायक माहौल तैयार किया जाता है। कोविड से जुड़े सारे प्रोटोकॉल मानने होते है। उसे उसी एरिया में तय समय तक रहना होता है। इसे इको क्षेत्र भी कहा जाता है। बायो बबल को क्वारंटाइन सेंटर भी कहा जा सकता है। क्योंकि यहां आप अपने सह​कर्मियों के अलावा किसी से भी नहीं मिल सकते। प्रत्येक खिलाड़ी एवं आईपीएल से जुड़े स्टाफ को हर समय बायो बबल का पालन करना होगा।

बायो बबल तोड़ने पर फिर से 7 दिन रहना होगा क्वारैंटाइन

यह डिवाइस सेंट्रल पैनल से जुड़ा होगा। इससे बोर्ड को पता चल सकेगा कि कौन से खिलाड़ी बायो-बबल का उल्लंघन कर रहे हैं। बायो-बबल का उल्लंघन करने पर खिलाड़ियों को फिर से 7 दिन क्वारैंटाइन रहना होगा और कोरोना जांच से गुजरना होगा। कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही दोबारा बायो-बबल में प्रवेश मिलेगा। बायो बबल के कारण कई खिलाड़ी आईपीएल खेलने से इंकार कर चुके है। क्योंकि यह एक तरह से क्वारंनटाइन के समान है।

 

यूएई में हुई थी शुरुआत

यूएई में IPL के पिछले सीजन के दौरान यूके की कंपनी ने रिस्टबैंड के रूप में ट्रैकिंग डिवाइस उपलब्ध कराई थी। यूएई में पहली बार बायो-बबल में आयोजित हुए IPLके दौरान हर टीम के साथ 1 कोरोना ऑफिसर नियुक्त किया गया था। लेकिन इस बार कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती पालन कराने के लिए सभी टीमों के साथ चार-चार कोरोना ऑफिसर नियुक्त किए गए हैं। सभी टीमों को होटल में खुद बायो-बबल तैयार करना है।

ये भी पढ़ें— IPL 2020: जानें किस खिलाड़ी को कौन सा अवार्ड मिला, MI और DC को कितना मिला ईनाम

ये भी पढ़ें— Grammy Award : ग्रैमी अवार्ड्स 2021 के विजेताओं की सूची जारी, देखें विजेताओं की Full List

ये भी पढ़ें— Bihar Development : बिहार के गांव बनेंगे वीआईपी, ये होंगी सुवधिाएं, पंचायती राज विभाग का फैसला

ये भी पढ़ें— BJP Foundation Day 2021 : भाजपा स्थापना दिवस, भारतीय जनता पार्टी से जुड़ा हर एक अपडेट

ये भी पढ़ें— Sachin Tendulkar : मास्टर ब्लास्टर का Test Cricket कॅरियर Details

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *