Night-safari-Madhya-pradesh-theedusarthi
Madhya Pradesh : पर्यटन विभाग की पहल राज्य के 3 नेशनल पार्कों में नाइट सफारी
March 7, 2021
DSSSB-jspecial-teacher-ob-2021-theedusarthi
Govt Jobs 2021 : दिल्ली में 1800 पदों पर सरकारी नौकरियां, आवेदन शुल्क मात्र 100 रूपये
March 7, 2021

भारत का सार्वजनिक क्षेत्र का सबसे बड़े बैक SBI ने लैंड परचेज योजना लांच की हैं। इसका मकसद बैंक से पहले से कर्ज लिए हुए छोटे व सीमांत किसानों और भूमिहीन कृषि श्रमिकों को भूमि जोत को बढ़ाने, बंजर व परती भूमि की खरीद के लिए मदद करना है। इसके तहत खरीदी जाने वाली जमीन लोन चुकता होने तक बैंक के पास गिरवीं होगी।

SBI की लैंड परचेज स्कीम की सबसे बड़ी खासियत यह है कि किसान को खेती की जमीन खरीदने के लिए जमीन के निर्धारित मूल्य का 85 फीसदी लोन की राशि के तौर पर बैंक से मिल जाता है। लोन की अधिकतम राशि 5 लाख रुपये है। हालांकि इस 85 फीसदी के लिए भूमि का मूल्य बैंक तय करेगा।

ये भी पढ़ें— Budget : बजट कैसे तैयार होता है? इसमें क्या-क्या होता है? जानें विस्तार से

स्कीम का लाभ लेने के लिए योग्यता

  • इस योजना का लाभ खुद के नाम पर 5 एकड़ से कम असिंचित/2.5 एकड़ तक सिंचित भूमि वाले लघु एवं सीमांत किसान, भूमिहीन कृषि श्रमिक ले सकते हैं।
  • उधारकर्ता का लोन चुकाने का कम से कम 2 वर्षों का अच्छा रिकॉर्ड हो।
  • अन्य बैंको के अच्छे उधारकर्ता भी पात्र हैं, बशर्ते कि वे अन्य बैंकों में उनके बकाए को चुकता कर दें।

लोन चुकाने की समयसीमा

SBI लैंड परचेज स्कीम में दिया गया लोन चुकाने के लिए किसानों को अधिकतम 10 वर्ष मिलते हैं। भूमि पर उत्पादन शुरू होने से लेकर अधिकतम 9-10 वर्ष तक किसान छमाही किस्तों में लोन चुका सकते हैं। अगर जमीन पहले से विकसित है तो उसके लिए उत्पादन से पूर्व अवधि अधिकतम 1 वर्ष होगी। वहीं जो जमीन खरीदे जाने के तुरंत बाद उत्पादन योग्य नहीं है यानी उत्पादन योग्य बनाना बाकी है, उसके लिए उत्पादन पूर्व अवधि 2 साल होगी। उत्पादन पूर्व अवधि के दौरान यानी जमीन पर उत्पादन शुरू होने से पहले के इस निर्धारित समय में किसान को कोई किस्त नहीं चुकानी होगी।

ये भी पढ़ें— UP Budget 2021-22 : UP की योगी आदित्यनाथ सरकार के बजट की बड़ी बातें

ये भी पढ़ें— ODISHA : ओबीसी वर्ग का पहला सर्वेक्षण, जानें संवैधानिक प्रावधान

ये भी पढ़ें— Banking : जानें वित्तीय साक्षरता सप्ताह 2021 के बारे में

ये भी पढ़ें— Navik : अमेरिका की GPS की बजाय ISRO की ‘नाविक’ बताएगी आपको रास्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *