Juvenile Justice Act 2015 theedusarthi
JUVENILE : किशोर न्याय अधिनियम 2015 के बारे में विस्तार से, केन्द्र सरकार का संशोधन
February 18, 2021
Mahabahu-Brahmaputra Project theedusarthi
Assam : महाबाहु-ब्रह्मपुत्र प्रोजेक्ट
February 18, 2021

भारत “ईरान-रूस समुद्री सुरक्षा बेल्ट 2021” में शामिल हो गया है, यह दो दिवसीय नौसैनिक अभ्यास है। यह अभ्यास हिंद महासागर के उत्तरी भाग में आयोजित किया जा रहा है।

विशेषताएं

इस अभ्यास में ईरानी सेना और इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स दोनों के नौसेना डिवीजन के बलों और जहाजों ने भाग लिया। रूसी नौसेना के कई जहाजों ने भी इस ड्रिल में भाग लिया। भारतीय नौसेना भी चयनित जहाजों के साथ अभ्यास में शामिल हो गई है। इस ड्रिल में चीनी नौसेना भी हिस्सा लेगी। यह अभ्यास 17,000 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करेगा। इस नौसैनिक अभ्यास में अपहृत जहाजों की मुक्ति, एंटी-पाइरेसी ऑपरेशन और खोज एवं बचाव कार्यों सहित कई गतिविधियों को संचालित किया जायेगा।

इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स

यह ईरानी सशस्त्र बलों की एक शाखा है। इस शाखा की स्थापना ईरानी क्रांति के बाद अप्रैल 1979 में अयातुल्ला रूहुल्लाह खुमैनी के आदेश से हुई थी। यह ईरानी सीमाओं की रक्षा करता है और आंतरिक व्यवस्था को बनाए रखता है। जैसा कि भारत में सीमा सुरक्षा बल यानि बीएसएफ करती हैं। ईरानी संविधान ने रिवोल्यूशनरी गार्ड को देश की इस्लामी गणतंत्रीय राजनीतिक व्यवस्था की रक्षा करने के काम के साथ काम सौंपा है। रिवोल्यूशनरी गार्ड्स में 2011 तक 2,50,000 सैन्य कर्मी थे। इसमें जमीनी बल, एयरोस्पेस फोर्स और नौसेना बल शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *