Fishing-industry-Goa-theedusarthi
Fishing : गोवा में जलीय खेती के लिए 400 करोड़ का निवेश, जाने विस्तार से
February 9, 2021
mysterious disease theedusarthi
Tanjania : तंजानिया में आई रहस्यमयी बीमारी, जानें क्या हैं ये
February 9, 2021

डेनमार्क ने हाल ही में दुनिया के पहले ऊर्जा क्षेत्र द्वीप के निर्माण की योजना के लिए अपनी मंजूरी दे दी है। इस ऊर्जा द्वीप का निर्माण उत्तरी सागर में होगा। इस ऊर्जा द्वीप का निर्माण उत्तरी सागर में किया जाएगा। इस परियोजना पर लगभग 210 बिलियन डेनिश क्राउन का निवेश किया जायेगा। इसका निर्माण डेनमार्क के पश्चिमी तट से 80 किलोमीटर दूर किया जाएगा। यह ऊर्जा द्वीप पवन टरबाइन से घिरा होगा और इसकी शुरूआती क्षमता 3 गीगावाट होगी। डेनमार्क ने 2033 तक ऊर्जा द्वीप को चालू करने की योजना बनाई है।

क्षमता एवं उपयोग

इस ऊर्जा द्वीप का उपयोग लगभग 3 मिलियन यूरोपीय घरों की बिजली की मांगों को पूरा करने के लिए पर्याप्त ऊर्जा का उत्पादन और भंडारण करने के लिए किया जाएगा। उत्तरी सागर में यह कृत्रिम द्वीप 18 फुटबॉल मैदानों के आकार के बराबर होगा। इस ऊर्जा द्वीप को सैकड़ों अपतटीय पवन टरबाइनों से जोड़ा जाएगा ताकि घरों में बिजली की आपूर्ति की जा सके। इसका उपयोग भारी परिवहन, शिपिंग, विमानन और उद्योग में उपयोग करने के लिए ग्रीन हाइड्रोजन की आपूर्ति के लिए भी किया जाएगा।

डेनमार्क की नवीकरणीय ऊर्जा नीति

डेनमार्क ने 1990 में स्तरों की तुलना में 2030 तक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में 70% तक कटौती करने के प्रयास के रूप में इस ऊर्जा द्वीप का निर्माण करने का निर्णय लिया है। यह लक्ष्य देश का सबसे महत्वाकांक्षी लक्ष्य है जो कानूनन बाध्यकारी है।

उत्तरी सागर

यह अटलांटिक महासागर का एक समुद्र है। यह समुद्र ग्रेट ब्रिटेन से घिरा हुआ है, इसके अलावा डेनमार्क, जर्मनी, नॉर्वे, बेल्जियम, फ्रांस और नीदरलैंड से भी इसकी सीमा लगती है। उत्तरी सागर इंग्लिश चैनल द्वारा दक्षिण में महासागर और उत्तर में नॉर्वेजियन सागर से जुड़ता है।

ये भी पढ़ें— RBI : एक देश एक लोकपाल की राह पर आरबीआई, जानें क्या होगा फायदा

ये भी पढ़ें— Chauri-Chauri : चौरी चौरा कांड का महात्मा गांधी और बाबा राघवदास से क्या है क्नेकशन?

ये भी पढ़ें— Innovation Index 2021: दक्षिण कोरिया पहले स्थान पर; भारत 50 वें पर, जानें विस्तार से

ये भी पढ़ें— Indonasia : चर्चा में इंडोनेशिया का सबसे सक्रिय ज्वालामुखी माउंट मेरापी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *