Gobar-dhan-yojna-theedusarthi
Gobar Dhan Scheme : ‘गोबरधन’ योजना की मॉनिटरिंग के लिए एकीकृत वेब पोर्टल लॉन्च, जानें विस्तार से
February 4, 2021
30-april-2021-Current-affairs-quiz-theedusarthi
Quiz : 4-5 फरवरी 2021 करेंट अफेयर्स क्विज
February 5, 2021

अमेरिका में स्टारडस्ट 1.0 लॉन्च व्हीकल 31 जनवरी को लॉन्च किया गया। इस लांच के साथ ही स्टारडस्ट 1.0 जैव ईंधन से चलने वाला पहला रॉकेट बन गया है।

इस राकेट को अमेरिका के मैनी राज्य से लांच किया गया। स्टारडस्ट 1.0 का यह प्रक्षेपण मैनी के लिए ऐतिहासिक है क्योंकि यह इस राज्य से पहला व्यावसायिक रॉकेट लॉन्च बन गया है। स्टारडस्ट 1.0 एक लॉन्च व्हीकल है जो छात्रों के पेलोड और बजट पेलोड के लिए उपयुक्त है।

यह भी पढ़ें— Paris Climate Agreement : जानें क्या है पेरिस जलवायु समझौता, जिसे लेकर बाइडेन ने ट्रम्प के फैसले को बदल दिया

खासियत

यह रॉकेट 20 फीट लंबा है और इसका द्रव्यमान लगभग 250 किलोग्राम है। स्टारडस्ट 1.0 अधिकतम 8 किलोग्राम तक का पेलोड ले जा सकता है। इसके पहले लांच के दौरान, रॉकेट में तीन पेलोड भेजे गये थे। इस पेलोड में कंपन को कम करने के लिए डिज़ाइन किया गया एक मेटल एलाय, हाईस्कूल के छात्रों द्वारा निर्मित क्यूबसैट प्रोटोटाइप और सॉफ्टवेयर कंपनी रॉकेट इनसाइट्स का क्यूब्सैट था।

 जैव ईंधन

जीवों से प्राप्त होने वाले ईंधन को जैव ईंधन कहा जाता है। इसके उत्पादन में कच्चे माल के रूप में अधिकांशतः कई ऐसी फसलों का प्रयोग किया जाता है, जिन्हें लोगों द्वारा प्रत्यक्ष रूप (जैसे-मानव आहार) या अप्रत्यक्ष रूप (जैसे-पशुओं के आहार के रूप में) से दैनिक जीवन में प्रयोग किया जाता है।

BLUSHIFT

स रॉकेट का निर्माण bluShift संस्था ने किया है जो मैनी में स्थित एक एयरोस्पेस कंपनी है। ब्लूशिफ्ट जैव-व्युत्पन्न ईंधन से संचालित रॉकेट विकसित कर रहा है। स्टारडस्ट 1.0 को ब्लूशिफ्ट द्वारा 2014 से विकसित किया जा रहा है। स्टारडस्ट 1.0 पारंपरिक रॉकेट ईंधन का उपयोग करने की तुलना में कम विषाक्त ईंधन का उपयोग करता है। कंपनी द्वारा विकसित किए जा रहे अन्य रॉकेटों में स्टारलेस रूज, स्टारडस्ट जनरल 2 और रेड ड्वार्फ शामिल हैं।

यह भी पढ़ें— United States : गरिमा वर्मा होंगी अमेरिका की फर्स्ट लेडी की डिजिटल निदेशक, जानें विस्तार से

 बायोडीजल

बायोडीजल सीधे वनस्पति तेल, पशुओं के वसा, तेल और खाना पकाने के अपशिष्ट तेल से उत्पादित किया जा सकता है। इन तेलों को बायोडीजल में परिवर्तित करने के लिए प्रयुक्त प्रक्रिया को ट्रान्स-इस्टरीकरण कहा जाता हैं अतः बायोडीजल पारंपरिक या ‘जीवाश्म’ डीजल के स्थान पर एक वैकल्पिक ईंधन है।

TheEdusarthi.com टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं। Subscribe to Notifications

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *