PL-deshpande-theedusarthi
PL Deshpande: जानें पीएल देशपांडे के बारे में, जिनकी 101वीं वर्षगांठ पर गूगल ने बनाया डूडल
November 8, 2020
changed the name of Ministry of Shipping theedusarthi
Shiping: पोत परिवहन मंत्रालय का नाम केन्द्र सरकार ने बदला, जानें विस्तार से
November 8, 2020

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के सूरत के निकट हजीरा और भावनगर जिले के घोघा के बीच रोपैक्स फेरी सेवा का उद्घाटन किया। इससे सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात दोनों क्षेत्र के लोगों का वर्षों का इंतजार खत्म हो गया है। हजीरा में आज नए टर्मिनल का भी लोकार्पण किया गया है।

फेरी सर्विस से लाभ

इसके शुरू होने से माल ढुलाई में लगने वाले समय में कमी आएगी और प्रतिदिन करीब 9000 लीटर ईंधन की बचत होगी। इस सेवा से कार्बन डाई ऑक्‍साइड उत्‍सर्जन में प्रतिदिन करीब 240 लाख टन की कमी आएगी। रो-पैक्‍स फेरी सेवा के हज़ीरा और घोघा मार्ग पर रोजाना 3 चक्‍कर लगेंगे। इससे सालाना पांच लाख यात्री, 80 हजार यात्री वाहन, 50 हजार दुपहिया वाहन और तीस हजार ट्रकों का आवागमन होता है। इससे सौराष्‍ट्र क्षेत्र में पर्यटन उद्योग को बढावा मिलेगा और रोजगार के नए अवसर भी पैदा होंगे। फेरी सेवा शुरू होने से सौराष्ट्र और कच्छ में बंदरगाह क्षेत्र, फर्नीचर उद्योग और उर्वरक उद्योग को मजबूती मिलेगी। गुजरात में विशेष तौर पर पोरबंदर, सोमनाथ, द्वारका और पालिताना में इको-टूरिज्‍म और धार्मिक पर्यटन को भी बहुत बढ़ावा मिलेगा। इस फेरी सेवा से संपर्क सुविधा बेहतर होगी और गिर के मशहूर एशि‍याई सिंह वन्‍य जीव अभयारण्‍य में पर्यटकों की संख्‍या भी बढ़ेगी।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भाषण की मुख्य बातें

  1. फेरी सर्विस  प्रोजेक्ट के सामने प्रकृति से जुड़ी अनेक चुनौतियां सामने आ खड़ी हुई हैं। उन्हें आधुनिक टेक्नोलॉजी के माध्यम से दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। समुद्री व्यापार-कारोबार के लिए एक्सपर्ट तैयार हों, ट्रेन्ड मैनपावर हो, इसके लिए गुजरात मेरीटाइम यूनिवर्सिटी बहुत बड़ा सेंटर है। आज यहां समुद्री कानून और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार कानून की पढ़ाई से लेकर मैरीटाइम मैनेजमेंट, शिपिंग और लॉजिस्टिक्स में एमबीए तक की सुविधा मौजूद है।
  2. हमारे प्रयासों से गुजरात के पोर्ट सेक्टर को नई दिशा मिली है। सिर्फ पोर्ट में फिजिकल इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण ही नहीं, उसके आस पास रहने वाले लोगों के जीवन आसान करने के लिए भी बहुत काम किया गया है। आज गुजरात में समुद्री कारोबार से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर और कैपेसिटी बिल्डिंग पर तेज़ी से काम चल रहा है। जैसे गुजरात मेरीटाइम क्लस्टर, गुजरात समुद्री विश्वविद्यालय, भावनगर में सीएनजी टर्मिनल, ऐसी अनेक सुविधाएं गुजरात में तैयार हो रही हैं।
  3. गुजरात के एक बड़े व्यापारिक केंद्र के साथ सौराष्ट्र की ये कनेक्टिविटी इस क्षेत्र के जीवन को बदलने वाली है। अब सौराष्ट्र के किसानों और पशुपालकों को सब्जी, फल और दूध को सूरत पहुंचाने में ज्यादा आसानी होगी।
  4. इस सेवा से घोघा और हजीरा के बीच अभी जो सड़क की दूरी 375 किमी है, वो समुद्री रास्ते से अब मात्र 90 किमी रह जाएगी। जिस दूरी को पूरा करने में 10 से 12 घंटे का समय लगता था , उसे पूरा करने में अब मात्र 3 से 4 घंटे लगेंगे।

TheEdusarthi.com टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।
Subscribe to Notifications

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *