fasttag-theedusarthi
FASTAG: पुराने वाहनों के लिए भी फास्टटैग जरूरी, जानें सभी महत्वपूर्ण तथ्य
November 7, 2020
Ro-Pax Ferry Service theedusarthi
PM Modi: गुजरात में रोफैक्स फेरी सर्विस का पीएम मोदी ने किया उद्घाटन, जानें विस्तार से
November 8, 2020
Show all

PL Deshpande: जानें पीएल देशपांडे के बारे में, जिनकी 101वीं वर्षगांठ पर गूगल ने बनाया डूडल

PL-deshpande-theedusarthi

गूगल ने आज 8 नवंबर को पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे के 101वीं जन्मदिन पर उनके सम्मान में डूडल बनाया है। पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे का जन्म 8 नवंबर 1919 को मुंबई में हुआ
था।

पीएल देशपांडे का पूरा नाम पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे था वो अपने छोटे नाम को ”पु ल” देशपांडे लिखते थे। ये मराठी के जाने-माने लेखक थे, इसके साथ ही वे अभिनेता पटकथा लेखक, संगीतकार, फिल्म निर्देशक और वक्ता भी थे। इन्हें महाराष्ट्र का लाडला भी कहा जाता है। भारत सरकार ने 1990 में इन्हें कला के क्षेत्र में पद्मभूषण से सम्मानित किया है। मराठी के अलावा देशपांडे का साहित्य अंग्रेजी और कन्नड़ समेत कई भाषाओं में है।

पुरूषोत्तम देशपांडे के दादा “वमन मंगेश दुभाषी” ने रवींद्रनाथ टैगोर की गीतांजलि का मराठी में अनुवाद किया था। इसका टाइटल अभंग गीतांजली रखा गया था।

शिक्षा एवं कार्य

पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे की प्रारंभिक शिक्षा मुंबई के पार्ले तिलक स्कूल से हुई। हाई स्कूल के बाद उन्होंने एलएलबी के लिए इस्मेल युसुफ कॉलेज में दाखिल हुए थे। देशपांडे ने 1950 में एमए की डिग्री पुणे के फर्गुसन कॉलेज से ली थी। उन्होंने भास्कर संगितालय के दत्तोपन राजोपाध्याय से हारमोनियम बजाने में भी शिक्षा ली थी।
देशपांडे ने कुछ सालों तक कर्नाटक के रानी पार्वती देवी और मुंबई के कीर्ति कॉलेज में बतौर प्रोफेसर भी अपनी सेवाएं दी है। देशपांडे ने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू का इंटरव्यू भी लिया था। देशपांडे ने विदेशों में भी अपनी कला का प्रचार किया है। उन्होंने पश्चिमी जर्मनी और फ्रांस में भी काम किया है।

सम्मान

देशपांडे ने हिंदी और अंग्रेजी फिल्मों में भी काम किया है। कला में योगदान के लिए उन्हें 1990 में पद्म भूषण नवाजा गया था। इसके अलावा देशपांडे को 1987 में कालिदास सम्मान, 1996 में महाराष्ट्र भूषण अवॉर्ड, 1979 में संगीत नाटक अकादमी फेलोशिप, 1965 में साहित्य अकादमी पुरस्कार,1993 में पुण्य भूषण, 1996 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।

फिल्म

देशपांडे की मशहूर मराठी फिल्म कुबेर, भाग्यरेषा, वंदे मातरम थी। देशपांडे ने भाड्याने देणे अहे, मानाचे पान में पटकथा और संवाद भी लिखा था। पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे का निधन 12 जून 2000 पार्किंसन रोग के कारण  पुणे में हुआ था।

TheEdusarthi.com टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।
Subscribe to Notifications

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *