world-tourism-day-theedusarthi
विश्‍व एवं भारतीय पर्यटन दिवस, जानें विस्तार से
September 29, 2020
shekhar-kapoor-theedusarhti
FTII: शेखर कपूर एफटीआईआई के अध्‍यक्ष बनाएं गए, जानें महत्वपूर्ण तथ्य
September 30, 2020
Show all

INS VIRAAT: भारतीय नौसेना की 30 वर्षों तक ताकत रहा आईएनएस विराट

INS-viraat-theedusarthi

 

भारतीय नौसेना में करीब 30 साल तक सेवा देने के बाद  आईएनएस विराट गुजरात के अलंग में 28 सितंबर 2020 को  तोड़ने का काम यहां शुरू हो गया। भारतीय नौसेना ने तीन साल पहले इस युद्धपोत को रिटायर कर दिया था। सेंटॉर-कैटेगरी के इस विमानवाहक पोत ने करीब 30 साल तक भारतीय नौ सेना में अपनी सेवाएं दीं है।
आईएनएस विराट के नाम सबसे ज्यादा सर्विस देने वाले युद्धपोत का गिनीज बुक में रिकॉर्ड है। आईएनएस विराट को गुजरात के अलंग में तोड़ा जाएगा, जो दुनिया के सबसे बड़े जहाज निपटान कारखानों में से एक है। पोत परिवहन मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि इस ऐतिहासिक युद्धपोत ने 11 लाख किलोमीटर का सफर तय किया है। यह पृथ्वी के 27 चक्कर लगाने के बराबर है।

 

ब्रिटिश नौसेना:

आईएनएस विराट को 1959 में ब्रिटिश नौसेना में शामिल किया गया था। तब इसका नाम एचएमएस हर्मिस था। 1984 में इसे रिटायर कर दिया गया।  भारतीय नौसेना में इसे 12 मई, 1987 में शामिल किया गया।

भारत नौसेना में कीर्तिमान:

यह कई विशेष अभियानों ‘ऑपरेशन ज्यूपिटर’, 1989 में श्रीलंका में शांति बरकरार रखने का अभियान में शामिल रहा। साथ ही 2001 में भारतीय संसद पर हमले के बाद यह ‘ऑपरेशन पराक्रम’ में भी शामिल रहा।
नौसेना अधिकारियों के मुताबिक इस जहाज को 2012 में रिटायर किया जाना था, लेकिन आईएनएस विक्रमादित्य के आने में देरी के चलते इसे टालना पड़ा था। आईएनएस विक्रमादित्य को 2014 में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया। आईएनएस विराट को 6 मार्च, 2017 को रिटायर किया गया।

निलामी:

साल 2017 में सेवानिवृत्त होने के बाद आईएनएस विराट को अलंग के श्रीराम ग्रुप ने नीलामी में 38.54 करोड़ रुपये में खरीदा था। यह जहाज मुंबई के नेवल डॉकयार्ड में लंगर डाले हुए था  श्रीराम ग्रुप के पास एशिया का सबसे बड़ा स्क्रैपयार्ड है, जो गुजरात के अलंग में स्थित है। श्रीराम ग्रुप्स के अनुसार आईएनएस विराट के पार्टस का उपयोग मोटरबाइक्स बनाने के लिए किया जा सकता है।

 

आईएनएस विराट का विराट रूप:

आईएनएस विराट की लंबाई 226 मीटर और चौड़ाई 49 मीटर है। यह युद्धपोत अपने आप में एक छोटे शहर की तरह था। यह जहाज एक पुस्तकालय, जिम, एटीएम, टीवी और वीडियो स्टूडियो, अस्पताल, दांतों के इलाज का सेंटर और मीठे पानी का डिस्टिलेशन प्लांट जैसी सुविधाओं से लैस था। इस जहाज का वजन 28,700 टन था। इस पर 150 अफसर और 1500 नाविकों की तैनाती की जा सकती थी।

नोट:

*आईएनएस का पूरा नाम इण्डियन नेवी सीप होता है।

*वर्तमान रक्षा मंत्री राजना​थ सिंह है।
*नौसेना रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करती है।

*भारतीय नौसेना के वर्तमान चीफ एडमिरल करमवीर सिंह है।
*इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

*भारतीय नौसेना का ध्येय वाक्य शं नो वरूण: हैं।

*विश्व में सबसे लंबे समय तक अपनी सेवा देने वाले युद्धपोत का दर्जा आईएनएस विराट को प्राप्त है।

* यह इकलौता लड़ाकू विमान वाहक पोत है, जिसने ब्रिटेन और भारत की नौसेना में सेवाएं दी हैं।

*श्रीराम ग्रुप के चेयरमैन मुकेश पटेल है।

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *