theedusarthi_security
बॉलीवुड की पहली अभिनेत्री जिसे Y कैटेगरी सुरक्षा, जाने X Y Z एवं SPG सुरक्षा के बारें में
September 8, 2020
theedusarthi_captain_vikram_batra
साहस और शौर्य के प्रतीक कैप्टन विक्रम बत्रा की 46 वीं जयंती आज, जानें विक्रम बत्रा के बारे में
September 9, 2020

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय भारत के प्रमुख केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में से एक है जो उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में स्थित है। यह एक आवासीय शैक्षणिक संस्थान है। इसकी स्थापना 1920 में सर सैयद अहमद खां द्वारा की गई थी और 1921 में भारतीय संसद के एक अधिनियम के माध्यम से केन्द्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया। कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय की तर्ज पर ब्रिटिश राज के समय बनाया गया  उच्च शिक्षण संस्थान था। मूलतः यह मुस्लिम एंग्लो ओरिएंटल कालेज था, जिसे मुस्लिम समाज सुधारक सर सैयद अहमद खान द्वारा स्थापित किया गया था।
एएमयू:
1856 में अलीगढ़ भारतीय मुसलमानों का सांस्कृतिक केंद्र था। सर सैयद अहमद खां ने यहां एंग्लो-ओरिएंटल कॉलेज बनाया था। कुछ ही दिनों में यह मुसलमानों को अंग्रेजी शिक्षा देने वाला प्रमुख केंद्र बन गया। 1920 में अलीगढ़ कॉलेज एक मुस्लिम यूनिवर्सिटी बन गया। इस दौरान यह राजनीतिक गतिविधियों का भी प्रमुख केंद्र बन चुका था। जब कॉलेज बना था, तब इसके पास 78 एकड़ जमीन थी, अब अलीगढ़ मुस्लिम यूनवर्सिटी का परिसर एक हजार एकड़ से अधिक क्षेत्र में फैला है।

वर्तमान में एएमयू:

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में शिक्षा के पारंपरिक और आधुनिक शाखा में 250 से अधिक पाठ्यक्रम पढ़ाए जाते हैं। कई विभागों और स्थापित संस्थानों के साथ यह प्रमुख केन्द्रीय विश्वविद्यालय दुनिया के सभी कोनों से, विशेष रूप से अफ्रीका, पश्चिमी एशिया और दक्षिणी पूर्व एशिया के छात्रों को पढ़ाई/शोध करने आते है। कुछ पाठ्यक्रमों में सार्क और राष्ट्रमंडल देशों के छात्रों के लिए सीटें आरक्षित हैं। विश्वविद्यालय सभी जाति, पंथ, धर्म या लिंग के छात्रों के लिए खुला है। यहां लगभग 2 हजार शिक्षक एवं 30 हजार विद्यार्थी हैं
अलीगढ़:
अलीगढ़ उत्तर प्रदेश में स्थित एक जिला है। इसकी जनसंख्या 2011 की जनगणना के अनुसार 8 लाख से अधिक है। भाजपा के सतीश कुमार गौतम वर्ष 2014 में भी चुनाव जीते थें। और 2019 में भी चुनाव जीतकर यहां के सांसद बनें हैं।

एएमयू के एल्यूमनी:
भारत रत्न से सम्मानित डॉ जाकिर हुसैन, खान अब्दुल गफ्फार खां, हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद, इतिहासकार इरफान हबीब,​ क्रिकेटर लाला अमरनाथ एवं मुश्ताक अली, पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री लियाकत अली खान, फिल्मकार जावेद अख्तर एवं नसरूदीन शाह इसके पूर्व छात्र रहे है।

नोट:
*एएमयू की मौलान आजाद लाइब्रेरी में 13.50 लाख पुस्तको के साथ तमाम दुर्लभ पांडुलिपियां मौजूद है।
*1877 ई. में लाइब्रेरी की स्थापना की गई थी।
*अलीगढ़ दिल्ली के दक्षिण पूर्व में 130 किमी दूरी पर दिल्ली-कोलकाता रेलवे और ग्रांड ट्रंक रूट पर स्थित है।
*भारतीय संसद अधिनियम 1921 के तहत इस संस्थान की स्थापना की गई थी।
*हैदराबाद के सातवे निज़ाम मीर उस्मान अली खान ने वर्ष 1951 में अलगढ़ मुस्लिम विश्‍वविद्यालय को 5 लाख रुपये का दान दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *