बैंकिंग सेवाएं 21 अक्‍टूबर तक के लिए सार्वजनिक उपयोगिता सेवा घोषित
April 27, 2020
28 अप्रैल 2020 करेंट अफेयर्स क्विज
April 28, 2020

पाकिस्तानी नौसेना ने 25 अप्रैल, 2020 को उत्तरी अरब सागर में जहाज-रोधी मिसाइलों की एक शृंखला का सफल परीक्षण किया। यह घोषणा पाकिस्तानी नौसेना के प्रवक्ता रियर एडमिरल अर्शीद जावेद ने की। पाकिस्तानी नौसेना के प्रवक्ता ने कहा कि इन मिसाइलों को समुद्र की सतह पर खड़े जहाजों से फिक्स्ड और रोटरी-विंग एयरक्राफ्ट द्वारा दागा गया था। इस परीक्षण के दौरान नौसेना स्टाफ के प्रमुख एडमिरल ज़फ़र महमूद अब्बासी मौजूद थे। इन जहाज-रोधी मिसाइलों को युद्धपोतों और विमानों द्वारा सफलतापूर्वक समुद्र तल पर दागा गया। पाकिस्तानी नौसेना ने इस परीक्षण के बारे में अधिक जानकारी नहीं दी।

पाकिस्तान की नौसेना होगी मजबूत

इन जहाज-रोधी मिसाइलों के सफल परीक्षण से पाकिस्तान की नौसेना की संचालन क्षमता और सैन्य तत्परता को बढ़ावा मिलेगा। पाकिस्तानी नौसेना स्टाफ के प्रमुख एडमिरल जफर महमूद अब्बासी ने कहा कि पाकिस्तानी नौसेना दुश्मन की आक्रामकता का मुंहतोड़ जवाब देने में पूरी तरह सक्षम है।

पाकिस्तान ने क्यों किया परीक्षण

भारत और पाकिस्तान के बीच अधिक तनाव होने के कारण यह कदम उठाया गया है। कोरोना वायरस महामारी के बीच भी भारत और पाकिस्तान के बीच देश की सीमाओं पर झड़पें जारी हैं।

अनुच्छेद 370 रद्द होने के बाद और तल्खी

भारत और पाकिस्तान के संबंध 5 अगस्त, 2019 के बाद तब और अधिक ख़राब हो गए, जब भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द कर दिया और जम्मू-कश्मीर राज्य की विशेष स्थिति वापस ले ली। अब यह राज्य दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया गया है। इसके बाद से पाकिस्तान ने कई अंतरराष्ट्रीय मंचों पर कश्मीर का मामला उठाया, जबकि भारत ने अपना यही वक्तव्य दोहराया कि यह (जम्मू-कश्मीर) भारत का एक आंतरिक मामला है और जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। भारत ने इस मामले पर किसी भी हस्तक्षेप के अनुरोधों को बार-बार ठुकराया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *