क्या है प्लाज्मा थेरेपी, विस्तार से जानें
April 24, 2020
संजय कोठारी ने ली CVC के रूप में शपथ, जानें इस पद के बारे में सबकुछ
April 25, 2020

कोरोना वायरस मरीजों के इलाज के लिए वेंटिलेटर एक बेहद महत्वपूर्ण मेडिकल उपकरण बनकर सामने आया है। कई देशों में इसकी कमी हो रही है जिसकी वजह से दुनियाभर में वैज्ञानिक तेजी से वेंटिलेटर विकसित करने के काम में जुट गए हैं। वहीं, स्पेस क्राफ्ट बनाने वाले नासा (NASA) ने भी इसमें हाथ आजमाया है। नासा द्वारा बनाए गए वेंटिलेटर की अस्पताल में सफल टेस्टिंग भी कराई गई है। नासा ने इसे वाइटल (वेन्टिलेटर इंटरवेन्शन टेक्नोलॉजी एक्सेसिबल लोकली) नाम दिया है, जो हाई प्रेशर वाला प्रोटो टाइप वेंटिलेटर है। एजेंसी ने कहा कि यह डिवाइस इसी हफ्ते न्यूयॉर्क के इकैन स्कूल ऑफ मेडिसिन में क्लीनिकल परीक्षण में कामयाब रहा। इस संस्थान को कोरोना वायरस संबंध शोध के लिए केंद्र बनाया गया है।

NASA ने क्या कहा

नासा जेपीएल ने ट्वीट कर कहा है ‘हम आम तौर पर स्पेस क्राफ्ट बनाते हैं, न कि मेडिकल डिवाइस, लेकिन हम मदद करना चाहते हैं। कोविड—19 महामारी में हमने एक हाई प्रेशर वाले प्रोटोटाइप वेंटिलेटर को तैयार किया है जिसे वाइटल नाम दिया गया है। 37 दिनों में हमने इसे डिजाइन करने के बाद न्यूयॉर्क के माउंट सिनाई अस्पताल में टेस्ट किया। अब अमेरिका की फूड ऐंड ड्रग अथॉरिटी इसका रिव्यू करेगी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *